CORONA पर बड़ा खुलासा : ‘2020’, चीन व जिनपिंग की जन्म तिथि में छिपा है रहस्य !

Corona, corona virus, numerology, chinese president Xi Jinping, venus, uranus, moon,

Corona, corona virus, numerology, numerologist pankaj maheshwaari

रायपुर/नवप्रदेश। कोरोना (Corona) वायरस (corona virus) की उत्पत्ति के पीछे की वजह जानकर हैरान रह जाएंगे आप। देश के प्रख्यात अंक ज्योतिष (numerology) तथा अखिल भारतीय ज्योतिष एवं वास्तु अनुसंधान परिषद छत्तीसगढ़ के अध्यक्ष पंकज माहेश्वरी के गहन अध्ययन की मानें तो ये ठीक वैसा ही जैसे किसी व्यक्ति के लिए कोई दिन, महीना या साल अच्छा नहीं होता और अनपेक्षित घटनाएं घटने लगती है।

अंक ज्योतिष (numerology) के मुताबिक चीन (china  affected duet to corona) के लिए साल 2020 भी कुछ ऐसा ही है, जिसका दंश दुनिया झेल रही है। अंक ज्योतिष के मुताबिक इस साल के आंकड़े यानी ‘2020’ तथा चीन व वहां के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (chinese president Xi Jinping) की जन्म तिथि  में भी कोराना वायरस (corona virus) के रहस्य छिपे हैं।

और अभी कुछ महीने तक राहत के आसार नहीं है। 2020 में चंद्रमा (moon) के प्रतीक 2 की दोहरी आवृति हो रही है। 2 और 2 का योग यानी 4 भी राहु का प्रतीक होता है। वहीं यदि हम 2020 में आए 22 के आंकड़े को भी लें तो यह अंक ज्योतिष के मुताबिक ऐसे व्यक्ति का प्रतीक है, जो दूसरे की गलतियों का बोझ लेकर चल रहा है।

उसके उल्टे हाथ में एक लाठी है, अपनी ही धुन में चल रहा है और आने वाले खतरे से अंजान हैं। उसके सामने सहसा ही आया मगरमच्छ उसे खाने का प्रयास कर रहा हैं और उसकी लाठी उसके काम नहीं आ रही हैं। ऊपर सूर्य को ग्रहण लग रहा है।

दुनिया ढो रही गलतियों का बोझ

वर्ष 2020 के परिप्रेक्ष्य में गलतियों का तात्पर्य चीन से है और व्यक्ति का आशय दुनिया से है। मगरमच्छ का मतलब है कोरोना (corona) वायरस, जिसकी चमड़ी मोटी है और लाठी उसका कुछ भी बिगाड़ नहीं पा रही है। लाठी यानी हमारा ज्ञान है, जो अब तक कोरोना का तोड़ नहीं ढूंढ़ पाया है। वहीं दूसरी ओर सूर्य को ग्रहण लग रहा है। ग्रहण की स्थिति में प्रकृति में भय और भ्रम का वातावरण निर्मित होता है। केवल ईश्वरीय प्रकाश ही इसका हल ढूंढ सकता है।

ऐसे हुई कोरोना की उत्पत्ति

चीन (china affected due to corona) 1 अक्टूबर 1949 को अस्तित्व मेंं आया। वर्तमान में यह 71 वर्ष का हो चुका है, जिसका योग 8 होता है, जो शनि को प्रदर्शित करता है। वहीं चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (chinese president Xi Jinping) की जन्मतिथि 15 जून 1953 है। उनकी उम्र अभी 67 साल है, जिसका योग 7+6= 13 और 3+1=4 यानी राहु है। अर्थात ही शनि और राहु का प्रादुर्भाव हो रहा है। चीन की जन्मतिथि 1 अक्टूबर 1949 है। पाश्चात्य मतानुसार उक्त अवधि में तुला राशि का शासन होता है।

दोहरा शुक्र भी बिगाड़ रहा गणित

तुला राशि का स्वामी शुक्र (venus) यानी अंक 6 होता है। और चाइल्डियन मेथड के अनुसार CHINA नाम की गणना से आंकड़ा आता है 15 का, जिसका योग 1+5=6 होता है। अर्थात दोहरा शुक्र (venus) चीन का प्रतिनिधित्व करता है। शुक्र से तात्पर्य दैत्यगुरु शुक्राचार्य व आसूरी शक्ति से है। खान-पान की वीभत्स्य शैली आदि। ।

शुक्र व राहु साथ-साथ, इसलिए हो रहा खेल

वर्ष 2020 के आगमन के साथ ही अंक 4 के रूप में राहु (uranus) का आगमन हुआ। वहीं चीन का अंक 6 यानी शुक्र है। ज्योतिष जगत में जब शुक्र (6) के साथ राहु (4) बैठता है तो यह किसी पुरुष व महिला के बीच अनैतिक संबंध का इशारा करता है। चीन की दृष्टि से अंक 6 जीव विज्ञान और अंक 4 रिसर्च का द्योतक है। इसका मतलब है जीव विज्ञान से संबंधित ऐसी रिसर्च जो जनहित के अनुकूल न हो।

अगस्त से राहत के आसार

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की जन्मतिथि 15 जून 1953 है। 15 जून 2019 से शी जिनपिंग के अंक यानी शुक्र में चंद्र की अंतर्दशा प्रारंभ हो गई है, जो विष फैलने का योग बनाती है। यह चक्र 15 जून 2019 से गतिशील है, जो 8 अगस्त 2020 तक प्रभावशाली रहेगा। जिसके बाद इस समस्या का निराकरण आशिंक रूप से मिलना शुरू हो जाएगा। 1 अक्टूबर 2020 के बाद कोरोना से निपटने की दिशा में विशेष सफलता मिलेगी।

-पंकज माहेश्वरी, अंक ज्योतिष तथा अध्यक्ष, अखिल भारतीय ज्योतिष एवं वास्तु अनुसंधान परिषद, छग, रायपुर, मो. नं- 7415114000

Share

News In English

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: