अमेरिका ने वेनेजुएला से जुड़ी दो शिपिंग कंपनियों पर लगाए प्रतिबंध

वाशिंगटन  । अमेरिकी वित्त मंत्रालय ने कहा कि उसने वेनेजुएला की अर्थव्यवस्था के तेल कारोबार क्षेत्र में काम करने वाली दो शिपिंग कंपनियों पर प्रतिबंध लगाए हैं।
इसके अलावा वेनेजुएला के रक्षा और सुरक्षा क्षेत्र में काम करने वाले व्यक्तियों पर भी प्रतिबंध लगाने की चेतावनी दी गयी है।
वित्त मंत्रालय की ओर से जारी वक्तव्य के मुताबिक जिन पर प्रतिबंध लगाए गए हैं उनमें दो शिपिंग कंपनियों और उनके तहत पंजीकृत दो जहाज हैं, जो वेनेजुएला से क्यूबा तक तेल पहुंचाते हैं।
अमेरिकी वित्त मंत्री स्टीवन म्नुचिन ने कहा, यदि सैन्य सहयोग के बदले में क्यूबा वेनेजुएला से तेल प्राप्त करना जारी रखता है तो अमेरिका आगे की कार्रवाई करेगा।
श्री म्नुचिन ने चेतावनी देते हुए कहा कि वेनेजुएला के मौजूदा राष्ट्रपति निकोलस मादुरो का समर्थन जारी रखने पर वेनेजुएला की सैन्य और खुफिया सेवाओं को गंभीर परिणाम भुगतने होंगे।
वेनेजुएला में मौजूदा राष्ट्रपति निकोलस मादुरो के खिलाफ हो रहे विरोध प्रदर्शनों को देखते हुए अमेरिका ने उस पर कई प्रकार के प्रतिबंध लगाने के अलावा कहा है कि वह सैन्य विकल्प पर विचार कर रहा है। नेशनल असेंबली के अध्यक्ष एवं विपक्ष के नेता जुआन गुआइदो ने 23 जनवरी को इन विरोध प्रदर्शनों का नेतृत्व करने के साथ ही स्वयं को देश का अंतरिम राष्ट्रपति घोषित किया था।
विपक्षी नेता जुआन गुआइदो ने 30 अप्रैल को काराकस के ला कारलोटा सैन्य अड्डे से एक विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व करते हुए वेनेजुएला की सेना और लोगों से सड़कों पर उतर कर मौजूदा राष्ट्रपति मादुरो को सत्ता से बेदखल करने का आह्वान किया था।
अमेरिका के अलावा अब तक कनाडा, अर्जेंटीना, ब्राजील, चिली, कोलंबिया, कोस्टा रिका, ग्वाटेमाला, होंडुरास, पनामा, पैराग्वे और पेरू समेत 54 देशों ने विपक्ष के नेता जुआन गुआइदो को वेनेजुएला के अंतरिम राष्ट्रपति के रूप में मान्यता देने की घोषणा की है।
उल्लेखनीय है कि वेनेजुएला में हजारों लोग मौजूदा राष्ट्रपति निकोलस मादुरो के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। इन विरोध प्रदर्शनों का नेतृत्व श्री गुआइदो कर रहे हैं। जनवरी की शुरुआत में श्री मादुरो ने राष्ट्रपति के तौर पर अपने दूसरे कार्यकाल की शपथ ली थी। हाल में संपन्न हुए चुनावों में उन पर गड़बड़ी करने के आरोप लगे थे।
श्री मादुरो के नेतृत्व में कई वर्षों से वेनेजुएला गंभीर आर्थिक संकट का सामना कर रहा है। बढ़ती कीमतों के अलावा खाने-पीने और दवाईयों की कमी के कारण लाखों लोगों ने वेनेजुएला से पलायन भी किया है। संयुक्त राष्ट्र के आंकड़ों के मुताबिक वेनेजुएला के 27 लाख लोगों ने लैटिन अमेरिकी और कैरेबियाई देशों में शरण ली हुई है।
मौजूदा राष्ट्रपति मादुरो ने श्री गुआइदो पर अमेरिका की मदद से उन्हें सत्ता से बाहर करने के लिए साजिश रचने का आरोप लगाया है। श्री मादुरो को चीन तथा रूस खुल कर अपना समर्थन दे रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *