ये बड़ा खुलासा कर रॉ के पूर्व अफसर ने राष्ट्रपति से मांगी इच्छामृत्यु, सरकार को…

raw, retired officer, sc kumar, euthanasia demand, navpradesh,

retired raw officer sc kumar during press meet

सचिव स्तर के अधिकारी (से.नि.) एससी कुमार ने राष्ट्रपति कोविंद व पीएम मोदी को लिखा पत्र  

नई दिल्ली/नवप्रदेश। भारत की खुिफया एजेंसी रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (raw) में सालों तक सेवा दे चुके सचिव स्तर के से.नि. अधिकारी (retired officer) एससी कुमार (sc kumar) ने इच्छामृत्यु (euthanasia) की मांग (demand) की है। इसके लिए उन्होंने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। 80 साल के कुमार ने अपने इस कदम के पीछे एक रसूखदार नेता व हरियाणा शासन-प्रशासन के लचर रुख को जिम्मेदार बताया है।

पूर्व अफसर की आपबीती उन्हीं की जुबानी …

नेता इतना प्रभावशाली कि न पुलिस कार्रवाई करती न शासन-प्रशासन

कुमार ने कहा कि वे अभी गुरुग्राम स्थित पालम विहार के पार्क-व्यू रेसिडेन्ट्स वेल्फेयर एसोिसएशन (rwa) के अध्यक्ष हैं। वहां के आठ टावरों में कुल 680 फ्लैट्स हैं। पार्क-व्यू गुरुग्राम सबसे बेहतरीन आवासीय समूह का खिताब कई बार जीत चुका है। लेिकन पिछले दो साल से एक राजनेता जवाहर यादव के प्रभाव में आकर आरडब्ल्यूए को परेशान किया जाने लगा।

कारण- सिर्फ आरडब्लूए पर अपने लोगों को बिठाकर मनमर्जी चलाने का है। उक्त राजनेता का प्रभाव हरियाणा सरकार पर इतना है कि न पुलिस सुनवाई करती है, और न ही शासन-प्रशासन। और तो और राज्य शासन से गफलत में डालकर, गलत जानकारियां देकर येनकेन प्राकरेण मौजूदा आरडबलूए को भंग करने की पुरजोर कोशिश जा रही है।

लगा कि भागादौड़ का कोई अंत नहीं इसलिए लिखा पत्र

कुमार ने आगे कहा कि चारों तरफ से फरियाद मांगने के बाद जब लगने लगा कि कहीं सुनवाई नहीं हो रही, इस भागादौड़ का कोई अंजाम नहीं निकल रहा तो अंत में राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर इच्छा मृत्यु (euthnesia) का निवेदन किया (demand) है ताकि वर्षों रॉ (raw) जैसे संस्थानों में राष्ट्रभक्ति से काम करने के बाद उम्र के इस पड़ाव पर बिना वजह मुझे हर रोज शर्मसार न होना पड़े!

उगाही के लिए यादव ने कराया अतिक्रमण

रॉ (raw) के पूर्व अधिकारी (retired officer) एससी कुमार (sc kumar) ने कहा कि हमारी सोसायटी के आसपास जवाहर यादव द्वारा अतिक्रमण करवाया गया है ताकि हर माह लाखों रुपए की उगाही की जा सके। बतौर स्थानीय नागरिक अगर हम अतिक्रमण का विरोध करें तो बदले में हमारी सोसाइटी में गुंडे-मवाली भेज कर हमें धमकाया जाता है।

उनकी ओर से पालम विहार थाने में कोई रिपोर्ट दर्ज हो तो पुलिस तुरंत हरकत में आती है। लेकिन बतौर आरडब्लूए अध्यक्ष मैं लिखित रूप में साक्ष्य सहित कोई शिकायत कराता हूं तो एफआईआर तक लिखने को राजी नहीं होते। थाने को लिखा। एसपी को शिकायत दी। मुख्यमंत्री को पत्र भेजे, लेकिन गत दो सालों से ज्यादातियां लगातर बढ़ती जा रही हैं।

नेता के गुंडों ने महिलाओं का भी जीना किया दूभर

कुमार ने कहा कि एकतरफा कार्रवाई हो रही है। उक्त नेता के गुंडों ने सोसाइटी की संभ्रांत महिलाओं का रहना दूभर कर रखा है। मैंने पिछले कार्यकाल में कई बार मुख्यमंत्री मनोहर लाल से मिलकर बात करने की कोशिश की मगर सफल नहीं हो सका। मैं मीडिया के माध्यम से फिर गुजारिश करूंगा कि मुख्यमंत्री मेरी इच्छा मृत्यु से पहले जरूर गुरुग्राम स्थित पार्क-व्यू रेजिडेन्ट्स वेलफेयर एसोसिएशन की शिकायतों बैठकर सुनें। गौर फरमाएं।

पद का दुरुपयोग कर रहे एसडीएम जैसे अफसर

हम सब उनको मिलकर बताएंगे कि कैसे स्थानीय एक नेता के प्रभाव में आकर एसडीएम रैंक का अधिकारी अपने नाम से आरडबलूए के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराता हैं। स्वतंत्र भारत के इतिहास में ऐसी पहली घटना होगा जहां बिना वजह एक अधिकारी अपने पद का दुरुपयोग गैरकानूनी एफआईआर के लिए कर रहा हो।

आरडब्ल्यूए को जबरिया भंग करने का षड्यंत्र

रॉ से रिटायर आरडब्लूए अध्यक्ष एससी कुमार ने बताया कि आरडब्लूए पर कब्जे के लिए उक्त नेता के दबाव में इंडस्ट्रीज विभाग ने हमारे सोसायटी की हर तरह की जांच पड़ताल कर ली, हमारे एकाउंट्स की ऑडिट देखी गई। चुनाव के तौर-तरीकों की जांच की गई। हर जगह जब हमारी सोसाइटी ठीक निकली तो अब विभाग के उच्च अधिकारियों से मिलकर लोकतांत्रिक तरीके से चुनी गई आरडब्ल्यू को जबरिया भंग करने की कोशिश की जा रही है, लेकिन हम सब मिलकर ऐसे तत्वों से लगातर मुकाबला कर रहे है, पर अब सब्र छलक रहा है।

Share

News In English

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: