अंतर्राष्ट्रीय फोटो प्रतियोगिता चलेगी राजधानी में 5 दिसंबर तक

Capital New Delhi, Andrei Stenin, International, photo Contest,

photo Contest

नई दिल्ली। राजधानी नई दिल्ली (Capital New Delhi) में आंद्रेई स्टेनिन इंटरनेशनल (Andrei Stenin International) फोटो प्रतियोगिता में (photo Contest) विजेताओं प्रतिभागियों की प्रदर्शनी 5 दिसंबर तक चलेगी। प्रतियोगिता के इतिहास में दूसरी बार रोसिया सेगोडन्या समाचार एजेंसी द्वारा यूनेस्को के सहयोग से किया जा रहा है।

इस प्रदर्शनी में रूस, भारत, दक्षिण अफ्रीका, इटली, अमेरिका, फ्रांस सहित कई देशों के सर्वश्रेष्ठ युवा फोटोग्राफरों द्वारा ली गई दर्जनों तस्वीरों की एक प्रदर्शनी भी लगी हुई है। इतालवी ग्रां प्री विजेता गैब्रिएल सेकोनी द्वारा ली गई है फोटोग्राफिक सीरीज द व्रीटेड एडं द अर्थ, मनुष्य और प्राकृति के बीच जबरन टकराव के बारे में एक दुखद कहानी बयान करती है।

Capital New Delhi, Andrei Stenin, International, photo Contest,
photo Contest dehli

इस प्रदर्शनी में देश सहित विदेशों के ज्वलंत मुद्दों को भी तस्वीरों के माध्यम से प्रदर्शीत किया गया है। रोहिंग्या शरणार्थियों और बांग्लादेश के दक्षिणी क्षेत्रों पर अपने प्रवासन द्वारा धीमी गति से विनाश की कहानी कहती तस्वीरें आपको सोचने पर मजबूर कर देंगी। फ्रांसिस रूसो (फ्रांस) द्वारा उनकी द वुमन ऑफ अरुगम बे की नायिकाएं श्रीलंका की महिलाएं हैं जिन्होंने विंडसर्फ के बारे में जानने का फैसला किया।

दक्षिण अफ्रीका के जस्टिन सुलिवन की सबसे चौंका देने वाली तस्वीरों में से एक है जिसने माई प्लैनेट श्रेणी में पहला पुरस्कार जीता है। इसमें एक अफ्रीकी हाथी को दिखाया गया है जिसे उत्तरी बोत्सवाना में हाथी दांत के शिकार शिकारियों ने मार दिया था। प्रदर्शन में भारत के चार विजेताओं द्वारा ली गई तस्वीरें शामिल हैं।

कोलकाता के पत्रकार और फ्रीलांस डॉक्यूमेंट्री फ़ोटोग्राफऱ देवरचन चटर्जी ने विरोध आंदोलन पर ध्यान केंद्रित करते हुए अपनी तस्वीर के लिए शीर्ष समाचार श्रेणी में प्रतियोगिता जूरी का पुरस्कार जीता है । अमित मौलिक और अयानवा सिल ने खेल श्रेणी में बेहतरीन और गतिशील चित्रों का योगदान दिया है ।

कोलकाता में बहुरूपी अभिनेताओं से स्ट्रीट ग्लास कटर तक विलुप्त होने की श्रृंखला के कगार पर उन व्यवसायों को दिखाया है संतनु डे ने / उद्घाटन से एक दिन पहले, प्रतियोगिता के क्यूरेटर ओक्साना ओलेनिक ने कहा है : “हमें खुशी है कि नई दिल्ली दूसरी बार आंद्रेई स्टेनिन इंटरनेशनल प्रेस फोटो प्रतियोगिता के विजेताओं द्वारा प्रदर्शनी की मेजबानी कर रहा है।
प्रतियोगिता के लिए सबमिशन की संख्या से भारत शीर्ष पांच देशों में से एक है, और मुझे उम्मीद है कि हमारी परियोजना में पेशेवरों की दिलचस्पी बढ़ेगी।

प्रतियोगिता के बारे में

यूनेस्को के लिए रूसी संघ के तत्वावधान में रोसिया सेगोडन्या समाचार एजेंसी द्वारा आयोजित आंद्रेई स्टेनिन इंटरनेशनल प्रेस फोटो प्रतियोगिता का उद्देश्य युवा फ़ोटोग्राफरों का समर्थन करना और आधुनिक फोटो जर्नलिज़्म के कार्यों पर जनता का ध्यान आकर्षित करना है। यह उन युवा फ़ोटोग्राफरों के लिए एक स्थान है जो प्रतिभाशाली, संवेदनशील और कुछ नया करने के लिए तत्पर हैं।

बाइट – स्टेनिन प्रतियोगिता ने जिस तरह का प्रदर्शन हमारे सामने लाया वह अद्वितीय है। जब हम अपने समारोह के लिए मास्को गए, तो हमें बहुत सारे शानदार फोटोग्राफरों से मिलने और जुडऩे का मौका मिला। प्रतियोगिता ने हमें फोटोग्राफी की शैली में आने में मदद की जिसे हमने चुना है।

वृत्तचित्र जब हम मॉस्को में अन्य अंतरराष्ट्रीय फोटोग्राफरों से मिले तो हमने महसूस किया कि वे अपनी शैली और फोटोग्राफी की शैली से चिपके रहते हैं और पैसे या व्यावसायीकरण के लिए इसे बदलते नहीं हैं।

शांतनु डे – बांग्लादेश में छात्रवृत्ति पर फोटोग्राफी का अध्ययन किया – पॉट्रेट श्रेणी में-विलुप्त होने के कगार पर नोस्टाल्जिया शीर्षक से उनकी श्रृंखला के लिए तीसरा स्थान हासिल किया।

बाइट- फ़ोटोग्राफी एक कलात्मक भाषा है और चित्र में उसकी अपनी धारणा को प्रतिबिंबित करने में सक्षम होने के लिए, फोटोग्राफर को कला का व्याकरण जानना चाहिए। हर कोई हमेशा ध्यान देता है कि जो भी कैमरे के सामने है, कोई भी उस व्यक्ति पर ध्यान नहीं देता जो पीछे से है।

स्टीनिन जैसी प्रतियोगिताओं से हमें वैश्विक स्तर पर फोटोग्राफरों को उचित पहचान मिलने में मदद मिलती है। हमें भारत में फोटोग्राफरों के लिए अधिक प्रदर्शनियों और प्रतियोगिताओं की आवश्यकता है।

Share

News In English

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: