Army chief ने आखिर क्यों कहा- बस एक आदेश का इंतजार

army chief, manoj mukund narvane, pok can be a park of india, navpradesh,

army chief, narvane

नई दिल्ली /नवप्रदेश। सेना प्रमुख (army chief, manoj mukund narvane) मनोज मुकुंद नरवणे ने पाक अधिकृत कश्मीर (pok can be a park of india) को लेकर शनिवार को बड़ा बयान दिया। उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा कि पीओके भारत का हिस्सा बन सकता है (pok can be a part of india)।

सरकार का आदेश (government order) मिलने पर हम कभी भी एक्शन ले सकते हैं। हालांकि, उन्होंने यह भी साफ किया कि इसका फैसला केंद्र सरकार को ही लेना है। सेनाध्यक्ष ने पाकिस्तान और चीन की चुनौतियों के सवाल पर कहा कि किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए हम तैयार हैं।

एलओसी पर पाकिस्तान की साजिश पर नरवणे (army chief, manoj mukund narvane) ने कहा कि इंटेलिजेंस इनपुट और सेना की तत्परता के जरिए हम पाक की साजिशों को ध्वस्त करने में सफल हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय सेना इन एलओसी पर सक्रिय है और हर चुनौती से निपटने के लिए तैयार है।

जब भी आदेश आएगा, करेंगे उचित कार्रवाई

उल्लेखनीय है कि गृहमंत्री अमित शाह संसद में दिए अपने बयान में पीओके को भारत का हिस्सा बता चुके हैं। इससे संबंधित सवाल पर नरवणे ने कहा कि संसदीय संकल्प के अनुसार जम्मू-कश्मीर अखंड भारत का हिस्सा है। यदि संसद यह चाहती है कि वह क्षेत्र (पीओके) भी हमारे क्षेत्र में शामिल हो तो इससे संबंधित आदेश (government order) जब भी आएगा, हम उचित कार्रवाई के लिए तैयार हैं।’

कश्मीर पर सेना के कामों को सराहा

अनुच्छेद 370 खत्म किए जाने के सवाल पर आमी चीफ ने कहा कि कश्मीर में हालात अच्छे हैं। सेना ने कश्मीर के हालात पर बहुत अच्छा काम किया है, फिल बात चाहे एलओसी की हो या घाटी की। इस दौरान लोगों का भी पूरा समर्थन मिला। स्थानीय प्रशासन और वहां की पुलिस का समर्थन भी रहा। नरवणे ने कहा कि कई बार ड्यूटी के वक्त तुरंत फैसले लेने होते हैं तब कमांडर को कॉल लेनी होती है, उसका सम्मान होना चाहिए।

सेना के पुनर्गठन की बात भी कही

सेना की मूलभूत संरचना में सुधार पर जोर देते हुए नरवणे ने कहा कि हम सेना का पुनर्गठन कर रहे हैं। चार अध्ययन चल रहे हैं और ये सब अभी अलग-अलग स्तर पर हैं। आर्मी हेडक्वार्टर रिस्ट्रक्चरिंग पर भी एक अध्ययन था। इसे सरकार को सौंप दिया गया है और ऑपचारिक मंजूरी का इंतजार है।

Share

News In English

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: