स्टेट बैंक में हुई चोरी की गुत्थी सुलझी

आरोपी गिरफ्तार, महिला से 90 हजार उठाईगिरी का मामला
नवप्रदेश संवाददाता
बिलासपुर। लखराम भारतीय स्टेट बैंक से हुए चोरी की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है। आरोपियों के खिलाफ अपराध कायम कर जेल भेज दिया।
ज्ञात हो कि 20 मई को श्रीमती हेमा माथुर पति प्रकाश माथुर 23 वर्ष 90 हजार लेकर जमा करने बैंक पहुंची थी लेकिन बैंक का चेक नहीं होने से एक साथ इतनी रकम जमा करने से इंकार कर दिया, जिसके बाद श्रीमती माथुर ने अन्य खाते में पांच हजार जमाकर दिया। इसी दौरान काउंटर में रखे थैले में पर्ची रखने जैसे ही देखा पैसों का थैला गायब था, उठाईगिरी होने का अभास होने के बाद रतनपुर थाने में शिकायत दर्ज कराई। बैंक से पैसों की थैला चोरी होने के मामले को गम्भीरता से लेते हुए रतनपुर पुलिस मुखबिरों का जाल बिछा रखा था।
वही जब बैंक का सीसीटीवी फुटेज खंगाला गया तो एक युवक और एक महिला दिखाई दिये। पतासाजी करने पर अजय रात्रे पिता रामफल रात्रे 25 वर्ष, श्रीमती लक्ष्मीन भाई पति रामफल रात्रे उम्र 45 वर्ष ग्राम उच्चभट्टी सीपत निवासी के रूप में हुई। जिन्हें गिरफ्तार कर पूछताछ करने पर लखराम बैंक से पैसों की उठाईगिरी करना स्वीकार किया। पूछताछ में बताया कि चोरी किये पैसों से एक नई बाइक खरीदा, बाकी रकम को घर के मरम्मत कार्य में खर्च किया दोनों आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई कर अपराध कायम कर जेल भेज दिया।

Spread the love

Leave a Comment