1 महीने में एसबीआई का दूसरा बड़ा तोहफा

नई दिल्ली  । देश के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने ग्राहकों को एक बड़ा तोहफा दिया है। दरअसल, बैंक ने ब्याज दरों में कटौती की है। यह एक महीने के भीतर दूसरी बार है जब ब्याज दर के मोर्चे पर बैंक ने अपने करोड़ों ग्राहकों को राहत दी है। बैंक ने मार्जिनल कॉस्ट ऑफ लेंडिंग रेट घटाने का ऐलान किया है। एमसीएलआर घटने से आम आदमी को सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि उसका मौजूदा लोन सस्ता हो जाता है और उसे पहले की तुलना में कम देनी पड़ती है।

1 महीने में दो बार सस्ता हुआ कर्ज

इससे पहले 10 अप्रैल को भी बैंक ने 0.10 फीसदी तक ब्याज दरें घटाई थीं। 1 महीने में यह दूसरी बार है कर्ज की दरें सस्ती की हैं। पिछले 1 महीने में अब तक होम लोन पर दरें 15 बेसिस प्वाइंट कम हो चुकी हैं। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की बैठक में रेपो रेट 0.25 फीसदी घटाने का फैसला हुआ था। इसके बाद कईं सरकारी बैंक ब्याज दरें घटाने का ऐलान कर चुके हैं.

इतनी सस्ती हुई होम, ऑटो, पर्सनल लोन

मार्जिनल कॉस्ट ऑफ लेंडिंग रेट 0.05 फीसदी की कटौती की है। एक साल के कर्ज पर एमसीएलआर 8.50 फीसदी से घटाकर 8.45 फीसदी पर आ गई हैं।

1 मई से लोन को लेकर बड़ा बदलाव कर चुका है। बैंक ने रेपो रेट को बैंक दरों से जोड़ दिया है। यह फैसला एक लाख रुपये से ज्यादा के लोन पर लागू है। नए नियम लागू होने के बाद एक लाख रुपए तक के डिपॉजिट पर 3.5 फीसदी इंटरेस्ट मिल रहा है। वहीं, 1 लाख रुपए से अधिक के डिपॉजिट पर यह इंटरेस्ट रेट 3.25 फीसदी है।

जून में और सस्ता होगा लोन लेना

आरबीआई मौजूदा वित्त वर्ष की पहली छमाही में रेपो रेट में 0.25त्न की और कटौती करने पर विचार कर सकता है। कोटक इकोनॉमिक रिसर्च में यह उम्मीद जताई गई है। रिपोर्ट के मुताबिक, घरेलू विकास दर की चिंताओं को ध्यान में रखते हुए रिजर्व बैंक आगे भी ब्याज दर घटाने का फैसला ले सकता है। अप्रैल महीने के पहले हफ्ते में हुई बैठक में भी 0.25त्न की कमी की गई थी। ज्यादातर एक्सपर्ट्स भी उम्मीद जता रहे हैं कि जून की पॉलिसी में ब्याज दरों में कटौती की जा सकती है।

Share

Leave a Comment