hareli festival: किसानों के हरेली तिहार से पहले गौठानों की लोकार्पण की तैयारी

Preparation for the release of the Gauhathans before the farmers of Tihar

hareli festival

  • कलेक्टर और जिला पंचायत सीईओ ने निर्माणाधीन गौठान और विकसित हो रहे चारागाह का अवलोकन किया

कवर्धा। राज्य सरकार की सुराजी गांव योजना Suraji Gaon Yojana के तहत कबीरधाम kabirdham जिले में पशुधन संरक्षण और ग्रामीण अजीविका के संवर्धन पर आधारित निर्माणाधीन गौठानों का हरेली तिहार hareli festival के दिन लोकार्पण करने की तैयारी चल रही है। हरेली तिहार hareli festival किसानों का बड़ा त्यौहार है। किसानों और जनभावनाओं को विशेष ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा प्रदेश में पहली बार किसानों के पर्व हरेली hareli festival पर सामान्य अवकाश घोषित किया गया है। किसानों के विशेष तिहार को ध्यान में रखते हुए कबीरधाम जिले में निर्माण हो रहे सभी गौठानों का लोकार्पण करने की तैयारी चल रही है। कलेक्टर अवनीश कुमार शरण और जिला पंचायत सीईओ ने आज जिले के आदिवासी बैगा बाहूल पंडरिया विकासखण्ड के सुदूर और वनांचल क्षेत्रों के निर्माणाधीन गौठानों और विकसित हो रहे चारागाह स्थलों का निरीक्षण किया और हरेली तिहार hareli festival के पहले पंडरिया विकासखण्ड के सभी गौठानों का पूर्ण रूप से निर्माण कार्य करने के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उल्लेखनीय है कि छत्तीसगढ सरकार की सुराजी गांव योजना के तहत कबीरधाम जिले के कवर्धा,बोडला, पंडरिया और सहसपुर लोहरा जनपद पंचायातों में 72 गौठान और सर्वसुविधायुक्त चारागाह विकसित किए जा रहे है। कवर्धा जनपद पंचायत में 16, बोडला में 23, सहसपुर लोहारा में 15 और पंडरिया जनपद पंचायत में 18 गौठान निर्माण किए जा रहे है। जिले की अधिकाश: गौठान पूर्णता:की ओर है।
कलेक्टर अवनीश कुमार शरण ने पंडरिया जनपद पंचायत के वनांचल ग्राम घोघरा, कुई-ककदूर, लोखान,पोलमी और मुनगाडीह के निर्माणाधीन गौठानों का निरीक्षण किया। यहां पशुओं के संरक्षण और संवर्धन के लिए विकसित किए जा रहे सभी संसधानों की जानकारी लेकर जनपद पंचायत सीईओ को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। कलेक्टर और जिला पंचायत सीईओ ने गौठानों के समीप विकसित हो रहे चारागाह स्थलों का निरीक्षण किया। जिला पंचायत सीईओ कुंदन कुमार ने ग्रामीणों से चर्चा करते हुए बताया कि छत्तीसगढ़ की चार चिन्हारी नरवा,गरूवा,घुरूवा और बाड़ी योजना के तहत पशुघन संवर्धन और संरक्षण के लिए गांव-गांव में सर्वसुविधायुक्त गौठान का निर्माण किए जाएंगे। वर्तमान में कबीरधाम जिले के चिन्हांकित गांवों में गौठान का निर्माण किए जा रहे है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: